केरल: ट्यूशन सेंटर के कारण 91 छात्रों के कोविड-19 संक्रमित होने का संदेह 

 

मलाप्पुरम (केरल)।  मलाप्पुरम में पोन्नानी के एक सरकारी स्कूल में कोविड-19 संक्रमित पाए गए 91 छात्रों के इस बीमारी की चपेट में आने का कारण एक निजी ट्यूशन सेंटर होने का संदेह जताया जा रहा है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। 

 तिरूर के जिला शिक्षा अधिकारी रमेश कुमार ने पीटीआई-भाषा को बताया कि ट्यूशन सेंटर को सोमवार को सील कर दिया गया।  उन्होंने कहा कि पोन्नानी के दो सरकारी विद्यालयों में कई छात्रों और शिक्षकों में संक्रमण की पुष्टि होने के बाद और अधिक छात्रों, शिक्षकों एवं अभिभावकों की आरटी-पीसीआर जांच की जानी है। कुमार ने कहा, यह पाया गया कि एक निजी ट्यूशन सेंटर संक्रमण के प्रसार का कारण बना, जहां छात्र पढाई करने जाते थे।   मारनचेरी और वनेरी स्कूलों के अलावा आसपास के स्कूलों को भी कुछ दिनों के लिए बंद किया गया है ताकि कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को काबू किया जा सके।   इन स्कूलों के कम से कम 22 छात्रों को पृथक-वास में रखा गया है जोकि इस ट्यूशन सेंटर में पढने जाते थे और बुधवार को सभी की जांच की जाएगी।   अधिकारी ने कहा कि इनके जांच नतीजों के आधार पर इस बात का निर्णय किया जाएगा कि इलाके के आसपास के स्कूलों के छात्रों का कोविड-19 परीक्षण कराया जाए अथवा नहीं?   उन्होंने कहा कि अब तक मारनचेरी स्कूल के 148 छात्र एवं 37 शिक्षक जबकि वनेरी स्कूल के 42 छात्र एवं 42 शिक्षक संक्रमित पाए गए हैं।   इस बीच, जिले के अधिकारियों का कहना है कि उनके पास उन सभी छात्रों का ब्योरा उपलब्ध नहीं है जोकि इस ट्यूशन सेंटर में जाते थे। हालांकि, पहले ही छात्र में संक्रमण की पुष्टि होने के बाद से ही ट्यूशन सेंटर बंद है।