एचआरडी करेगा स्कूलों में डिजिटल व ई—शिक्षा की पहल


  
         नयी दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय देश के स्कूलों में पढ़ाने वाले करीब 15 लाख अप्रशिक्षित शिक्षकों को 2019 तक प्रशिक्षित करने के साथ  9 वीं से 12 वीं तक के विद्यार्थियों  तथा उच्च शिक्षा के स्तर पर डिजिटल एवं ई—माध्यम से शिक्षा सुलभ कराने की पहल कर रहा है। 
       मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि शिक्षकों  को प्रशिक्षित करने के संदर्भ में हाल ही में राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) की ओर से तैयार पाठ्यक्रम को पेश किया गया था । इस कार्यक्र म के तहत शिक्षक अपनी सहूलियत के हिसाब से दिन में कभी भी पढ़ सकेंगे। हर शिक्षक को दिन में केवल तीन घंटे प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता होगी। 
        मंत्रालय के मूक्स प्लेटफार्म, स्वयं पोर्टल, डीडी पर प्रसारित होने वाले स्वयंप्रभा के 32वें चैनल और एनआईओएस डीईएलईडी नामक ऐप जैसे ऑनलाइन माध्यमों के जरिए शिक्षक पढ़ाई कर सकेंगे। इसके अलावा डीडी फ्री डिश पर दिखाये जाने वाले चैनलों में कुछ ज्ञान आधारित चैनलों पर कार्यक्र म पेश किये जायेंगे ।  
         कोर्स सामग्री को हिंदी, अंग्रेजी के अलावा 10 क्षेत्रीय भाषाओं में भी अपलोड किया गया है। कोर्स की शुरूआत 3 अक्तूबर 2017 से होगी और इसका समापन 31 मार्च 2019 को होगा।
        इसके अलावा स्कूली स्तर पर भी छात्रों को ई माध्यम से शिक्षा प्रदान करने की पहल की जा रही है। साथ ही सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी के माध्यम से उच्च शिक्षा का प्रसार करने और सुदूर क्षेत्र तक पहुंच सुलभ बनाने के लिए स्नातक स्तर पर पर्यावरण अध्ययन, हिन्दी, अंग्रेजी, गणित, मानविकी, फोटोग्राफी, इतिहास, सामाजिक विज्ञान, इंजीनियरिंग, प्रबंधन, चिकित्सा विज्ञान, विज्ञान विषयों में ई सामग्री तैयार की गई है।
        अधकिारी ने कहा कि हमारा जोर सबको शिक्षा, अच्छी शिक्षा है और इस दिशा में स्कूली शिक्षा के गुणात्मक सुधार के प्रयास किए जा रहे हैं। सभी स्कूलों में कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक के विद्यार्थियों को विज्ञान, गणित, अंग्रेजी आदि विषयों के सभी भाषाओं में ई-कन्टेन्ट तैयार कर उपलब्ध कराये जायेंगे। वर्ष 2018 से सभी स्कूलों में विद्यार्थियों को ई कन्टेन्ट नि:शुल्क उपलब्ध कराने की दिशा में प्रतिबद्धता से पहल की जा रही है।