बालिकाओ को आत्म रक्षा हेतु परिषद् दे रहा है जूडो कराटे प्रशिक्षण 
 सभापति का मुख्यमंत्री राजे के जन्मदिन पर नवाचार 
 
डूंगरपुर - बालिकाओं को आत्मरक्षा के प्रति सक्षम बनाने के लिये नगर परिष्ज्ञद डूंगरपुर ने एक नई पहल करते हुए नगर की बालिकाओं को जूडो  कराटे का प्रशिक्षण देने का कार्य शुरू किया है । नगरपरिषद सभापति के.के.गुप्ता ने बताया आज के सामाजिक परिवेश में प्रत्येक बालिकाओं को आत्म रक्षा के लिए प्रशिक्षण लेना जरूरी है। इसके जरिए बालिकाए  मजबूती से अराजक लोगों से डटकर मुकाबला कर सकती है। 
         नगर परिषद डूंगरपुर द्वारा यह शुरुआत मुख्यमंत्री के जन्मदिन पर बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ के साथ बेटी को आत्म रक्षा हेतु मजबूत बनाने के उद्देश्य से  की गई थी। सभापति केके गुप्ता का कहना है कि प्रशिक्षण महिलाओं के आत्म रक्षा के लिए निश्चय ही सार्थक कदम है। सभापति ने बताया की  बालिकाएं एक मजबूत आत्मविश्वास के साथ अपने दायित्वों का निर्वाहन और अच्छे ढंग से कर सकती हैं,महिलाओं का सशक्तिकरण आज समय की मांग है और सुरक्षित और सक्षम महिलाएं प्रभावी ढंग से कार्य हमारे समाज को खुशहाल और समृद्ध बना सकती है। इसलिए इस तरह का प्रशिक्षण नगरपरिषद द्वारा 1 अप्रैल से शुरू किया गया है बेटियाँ प्रतिदिन प्रशिक्षण ले रही जिसमे शहर की 100 बेटियाँ प्रतिदिन प्रशिक्षण ले रही है।  सभापति ने बताया की इस प्रशिक्षण में 5 से 15 वर्ष की आयु की बालिकाओ को ही प्रशिक्षण दिया जा रहा है  और ये प्रशिक्षण अनवरत चलता जाएगा। जुडो कराटो का प्रशिक्षण राष्टीय खिलाडी द्वारा दिया जाएगा जो जुडो कराटो में ब्लैक बेल्ट विजेता है,प्रशिक्षण में शहर के विधयालयो की बालिका राज्य और राष्ट स्तर की प्रतियोगिता में भाग ले सकेंगी,राष्ट स्तर और राज्य स्तर की प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए नगरपरिषद् द्वारा पूरा सहयोग किया जाएगा। सभापति ने बताया की अच्छा खिलाड़ी सिर्फ प्रशिक्षण के लिए राष्ट और राज्य स्तर की प्रतियोगिता में भाग नहीं ले पाता है, इसके लिए ही ये प्रशिक्षण नगरपरिषद् द्वारा प्रारम्भ किया जा रहा है जिससे हमारे शहर की बालिका भी आत्म रक्षा के साथ साथ राष्ट्र स्तर पर अपने शहर परिवार और शहर का नाम रोशन कर सके। सभापति ने बताया की जुडो कराटे प्रशिक्षण के दौरान सभी सामग्री नगरपरिषद् द्वार ही उपलब्ध कराई जाएंगी जिसमे किट और मेटिंग नगरपरिषद द्वारा उपलब्ध कराई जाएंगी और स्थान भी  नगरपरिषद द्वारा चयन कर लिया गया है। सभापति ने शहरवासियों से आहवान किया है की अपनी बेटी को आत्मा रक्षा का प्रशिक्षण दिलवाये और अपनी बेटी को आत्म निर्भर बनाये।  साथ ही परिषद् द्वारा बेटियों को नृत्य और मेहंदी भी सिखाई जा रही है।