मणिपुर विविद्यालय तीन माह बाद खुला, धरना समाप्त
 
इंफाल । मणिपुर विविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर ए पी पांडेय को हटाये जाने की मांग को लेकर छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों के विरोध-प्रदर्शन के कारण तीन माह तक बंद रहने के बाद विविद्यालय गुरुवार को खुला। 
        विविद्यालय के छात्र, शिक्षक और कर्मचारी कुलपति के काम करने के तरीके से नाराज थे और उन्हें हटाने की मांग कर रहे थे। उन पर ज्यादातर समय अन्य राज्यों में बिताने और सभी महत्वपूर्ण पदों को खत्म करके प्रभारी अधिकारी की नियुक्ति का आरोप है ताकि पूरी शक्ति उनके हाथ में रहे। मणिपुर विवि छात्र संघ, मणिपुर विवि शिक्षक संघ और मणिपुर विवि कर्मचारी संघ के सदस्यों ने कुलपति को हटाये जाने की मांग को लेकर आंदोलन शुरू किया था जिसके कारण विवि लगभग तीन माह तक बंद रहा लेकिन छात्रों के हितों को ध्यान में रखकर यह आंदोलन खत्म कर दिया गया है। 
        मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और अन्य मत्रियों ने दिल्ली में कई बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात की लेकिन केंद्र सरकार ने इस संबंध में कुछ नहीं किया। बाद में 16 अगस्त को मुख्यमंत्री की मौजूदगी में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मांलय के प्रतिनिधियों, विविद्यालय के छात्रों, कर्मचारियों एवं शिक्षकों और राज्य सरकार के अधिकारियों के बीच एक सामझौते पर हस्ताक्षर के बाद विवि के खुलने का मार्ग प्रशस्त हो सका। मेघालय उच्च न्यायालय के पूर्व कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश टी नंदकुमार सिंह की अध्यक्षता वाली समिति कुलपति पर लगाये गये आरोपों की जांच करेगी। प्रो. पांडेय इस दौरान छुट्टी पर रहेंगे।