डीयू : पुस्तकालय कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर दिया धरना
 
मुख्य मांग 25 से 30 वर्षो से कर्मचारियों की पदोन्नति न होना व वेतनमानों को कम करके उनकी रिकवरी करने का विरोध 
 
नई दिल्ली । दिल्ली विविद्यालय में पुस्तकालय कर्मचारी कई वर्षो से अपनी लंबित मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर हैं। इनकी मुख्य मांग 25 से 30 वर्षो से कर्मचारियों की पदोन्नति न होने के कारण और वेतनमानों को कम करके उनकी रिकवरी करने के विरोध में हैं। विविद्यालय प्रशासन से कई बार बातचीत हुई लेकिन पिछले एक वर्ष से आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला जिसके कारण कर्मचारियों में रोष है और पुस्तकालय कर्मचारी अपनी एसोसिएशन के तत्वाधान में अनिश्चितकालीन धरने पर हैं। बुधवार को धरने का पांचवा दिन था। इस मौके पर डीयू के कार्यकारी परिषद सदस्य डॉ राजेश झा ने कर्मचारियों की मांगों को जायज ठहराते हुए धरने को पूर्ण रूप से समर्थन दिया और धरना स्थल पर अन्य संगठनों ने भी मांगों को उचित ठहराते हुए सहयोग करने का आश्वासन दिया। धरना स्थल पर एसोसिएशन के प्रधान संजय कुमार भरेडी व महासचिव योगेंद्र तिवारी ने विविद्यालय प्रशासन को चेतावनी दी कि अगर जल्दी से जल्दी हमारी समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो हमें मजबूरन सोमवार दिनांक 13 अगस्त को शाम 6 बजे विविद्यालय गेट नंबर 4 से रजिस्ट्रार के निवास स्थान तक विशाल कैंडल मार्च निकालने पर मजबूर होना पड़ेगा। इसमें दिल्ली विविद्यालय व उससे सम्बद्ध कॉलेजों के पुस्तकालयों के सभी कर्मचारी, विद्यार्थी और शिक्षक भी भाग लेंगे साथ ही साथ डूक्कू के सदस्य भी सहयोग करेंगे।