बीएमसी स्कूलों के नौ फीसदी बच्चे पेशे के तौर पर अपनाना चाहते हैं खेती 
 
  मुम्बई, मुम्बई महानगरपालिका के स्कूलों के नौ फीसदी से अधिक बच्चे व्यवसाय के रूप में कृषि को अपनाना चाहते हैं। सेना और पुलिस सेवा को अपना करियर बनाने वाले विद्यार्थी उसके बाद क्रमश: दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं।   
                मुम्बई महानगरपालिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महानगरपालिका की सव्रेक्षण रिपोर्ट का यह नतीजा आश्चर्यजनक है क्योंकि देश की वित्तीय राजधानी में विद्यार्थियों के इतने बड़े हिस्से ने कृषि में अपना रुझान दिखाया है। महानगरपालिका के 210 विद्यालयों में कक्षा नौ के 12,500 से अधिक विद्यार्थियों पर सव्रेक्षण किया गया। उनमें से 9.46 फीसदी विद्यार्थियों का कहना था कि वे कृषक बनना चाहते हैं, 7.3 फीसदी का सेना से जुड़ने का लक्ष्य है जबकि 7.25 फीसदी विद्यार्थियों ने पुलिस में जाने की इच्छा जताई।
  रविवार को जारी इस रिपोर्ट के मुताबिक इसके अलावा, 6.99 फीसदी बच्चे पैरामेडिकल कर्मी बननाचाहते हैं, जबकि 4.11 फीसदी बच्चे एकाउंटेंसी को अपना पेशा बनाने के पक्ष में थे।  पिछले साल बीएमसी ने कक्षा नौवीं के विद्यार्थियों को ‘भविष्य के लिए तैयार’ करने के प्रयास के तहत शहर के एनजीओ अंतरंग के साथ हाथ मिलाया और उन्हें करियर काउंसंिलग प्रदान करना शुरु किया। अधिकारी ने कहा कि करियर काउंसंिलग के परिणामों को बच्चों के अभिभावकों के साथ व्यक्तिगत तौर पर साझा किया गया।