नोएडा: अभिभावकों व सामाजिक संगठनों ने घेरा स्कूल
बच्ची से हैवानियत की घटना का मामला
 
स्कूल प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांग अभिभावकों में आक्रोश, सीबीआई जांच की मांग
नोएडा। शहर के एक नामी गिरामी पब्लिक स्कूल के परिसर में साढ़े तीन साल की बच्ची से हैवानियत की घटना को लेकर अभिभावकों में रोष है। सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। घटना के विरोध में सोमवार को बड़ी संख्या में अभिभावकों, आरडब्ल्यूए प्रतिनिधियों व सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने स्कूल का घेराव कर प्रदर्शन किया। प्रबंधन के रवैये से नाराज लोग स्कूल के अंदर घुस गए। प्रदर्शनकारियों के आक्रोश को देख प्रबंधन ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सामाजिक संगठनों ने इस मामले में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है। इस घटना के लिए सीधे-सीधे स्कूल प्रशासन को ही जिम्मेदार ठहराया है। वहीं मामले की जांच कर रही पुलिस स्कूल प्रबंधन को भी इस केस शामिल कर सकती है। पुलिस मामले से जुड़े साक्ष्य जुटा रही है।ज्ञात हो कि सूरजपुर कोतवाली क्षेत्र में स्थित एक नामी गिरामी पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाली साढ़े तीन साल की बच्ची से दुष्कर्म की घटना प्रकाश में आई है। दुष्कर्म का आरोप स्वीमिंग पूल के लाइफ गार्ड चंडीदास पर है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बीते 12 जुलाई को बच्ची के साथ हुई हैवानियत की घटना के विरोध में सोमवार को बड़ी संख्या में अभिभावकों के अलावा गोल्डन फेडरेशन ऑफ आरडब्ल्यूए, करप्शन फ्री इंडिया, महिला शक्ति संगठन व शिक्षा अधिकार आंदोलन के कार्यकर्ता स्कूल गेट पर इकट्ठा हुए और प्रदर्शन किया। इस दौरान स्कूल प्रबंधन के बात न करने पर लोगों का आक्रोश बढ़ गया। प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कुछ लोग स्कूल के अंदर घुस गए और प्रधानाचार्य के कार्यालय का घेराव किया। प्रधानाचार्य ने सभी से स्कूल के ऑडिटोरियम में मिलने को कहा। उन्होंने अभिभावकों से बच्चों की सुरक्षा और आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की बात कही। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौधरी प्रवीण भारतीय का कहना है कि आज दिन प्रतिदिन देश के अंदर इस तरह की घटनाएं घटित हो रही हैं। इससे भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता का पतन हो रहा है। बड़े-बड़े स्कूल कॉलेजों में सुरक्षा के नाम पर कुछ नहीं है। इस मामले में स्कूल प्रबंधन द्वारा लापरवाही बरती गई। हमारी मांग है कि स्कूल प्रशासन के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाए। इस मौके पर कैलाश भाटी, कृष्ण नागर, श्रीमती रूपा गुप्ता, साधना सिन्हा, रूपेश वर्मा, मोनू गुर्जर, अजय चौधरी, श्यामवीर, अंजू पुंडीर आदि मौजूद थे।