नन्हें कलाकारों ने रंग महोत्सव में दिखाई अभिनय प्रतिभा

 

  • आईजीएनसीए व उड़ान द्वारा बाल रंग महोत्सव का आयोजन
  • नाटक मेरे देश की धरती, सनकी राजा व ईर्ष्या का फल का मंचन
  • बाल कलाकारों ने दिया देश प्रेम व आपसी प्रेम का संदेश

नई दिल्ली। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र तथा उड़ान—द सेंटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट द्वारा आयोजित बाल रंगमंच प्रशिक्षण शिविर के समापन पर आयोजित बाल रंगमंच महोत्सव में बाल कलाकारों अपनी प्रतिभा से मन मोह लिया। महोत्सव में तीन नाटकों 'मेरे देश की धरती', 'सनकी राजा' तथा 'ईर्ष्या का फल' का मंचन किया गया। इन नाटकों से देश प्रेम व आपसी प्रेम का संदेश दिया गया। 
        इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र तथा उड़ान—द सेंटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट द्वारा रोहिणी स्थित माउंट आबू पब्लिक स्कूल तथा मदर डिवाइन पब्लिक स्कूल में आयोजित रंगमंच शिविरों के समापन पर आयोजित बाल रंगमंच महोत्सव का आयोजन इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र के सभागार में किया गया। महोत्सव का उदघाटन आईजीएनसीए के सदस्य सचिव डा.सच्चिदानंद जोशी ने किया। कला दर्शन के विभागाध्यक्ष डा.अचल पाण्डया इस दौरान विशिष्ट अतिथि रहे। महोत्सव में उडान के निर्देशक संजय टुटेजा,  प्रख्यात रंगकर्मी राजेश तिवारी तथा तुषार डे के निर्देशन में तीन बाल 'मेरे देश की धरती', 'सनकी राजा' तथा 'ईर्ष्या का फल' का मंचन किया गया। नाटक मेरे देश की धरती देश प्रेम पर आधारित था जिसमें धरती के रूप में ताशु राणा,शांति बनी नैशा सिंह,विहान,ऋषि नययर, एवं जिया वर्मा, तानिया, कनिष्का व कनष्कि ने सशक्त अभिनय किया।
       राजेश तिवारी के निर्देशन में मंचित दूसरे नाटक 'सनकी राजा' में राजा की भूमिका में मितिशा, सूत्रधार बने अनिरूद्ध, रानी की भूमिका में हिमांशी मेहता, अनन्या राय,लावण्या, सात्विक, पार्थ, राजकुमारी के रूप में नेत्रा ने सशक्त अभिनय किया। उडान के निदेशक संजय टुटेजा के निर्देशन में मंचित तीसरे नाटक 'ईर्ष्या का फल' का फल' में राजा की भूमिका में दीक्षा गर्ग, प्रधानमंत्री की भूमिका में शगुन, चित्रकार की भूमिका में मनन ललित, सूत्रधार बनी गुंतास कौर, दीत्या,राहीनी व अवनी, मालन बनी दिशा प्रकाश, मंत्री हर्षित, विवेक भोला, माधव जोशी, तथा अंजल व हार्दिका ने सराहनीय अभिनय किया। महोत्सव के सनकी राजा व  'ईर्ष्या का फल' नाटकों में पार्थ,अनंदिता, शनाया, यथार्थ, वंश, आर्यन,धैर्य, आयान, निक्षय, अतिश्य, अरनव, धृति, ऋषि झा, सुकृति,आरिका, ध्रुव, केश्व, सिद्धि,मनन गोस्वामी, दिलजोत, नकुल खुराना,दिशा प्रकाश, उन्नति मीना व अमोघ ने भी अपनी प्रतिभा दिखाई वहीं मेरे देश की धरती में आदित्य, अमन, आर्या, अर्पिता, एकलव्य, गौरांश,हर्षित,लविश, कनिष्क, कनिष्का, केतन, वैभव,तनिषा,स्वास्तिक, शिवांगी, शशांक,शरन्या, सयांश,रूद्रेश,प्रीत, नैशा, यश व गर्वित ने भी सराहनीय अभिनय किया।  वरूण नरूला के संगीत ने नाटक को जहां उचाई प्रदान की वहीं सचिन वर्मा व अक्षय कुमार सहायक निर्देशन की भूमिका में रहे।