अंधेर नगरी में बाल कलाकारों ने दिखाया जौहर 

  • दिल्ली हाट में हुआ अंधेर नगरी का मंचन
  •  अंधेर नगरी में बाल कलाकारों ने किया रोमांचित 
  • कलाकारों व प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करेगी सरकार: गौतम
  • उडान के 78वें बाल रंगमंच प्रषिक्षण विर का समापन 
  •  
 
 
 
नई दिल्ली। दिल्ली पर्यटन तथा उड़ान-द सेटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट द्वारा दिल्ली हाट पीतमपुरा में आयोजित भारतेंनदू हरीशचन्द लिखित नाटक अंधेर नगरी के मंचन में बाल कलाकारों ने अपनी अभिनय प्रतिभा से रोमांचित कर दिया। इस अवसर पर दिल्ली के कला संस्कृति व पर्यटन मंत्री राजेन्द्र गौतम ने दिल्ली में कलाकारों, ललित कलाओं तथा नवोदित प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने का एलान किया।
          दिल्ली पर्यटन तथा उड़ान-द सेंटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट द्वारा आयोजित बाल रंगमंच प्रशिक्षण शिविर के समापन पर दिल्ली हाट पीतमपुरा मे भारतेंदू हरीशचंद द्वारा लिखित नाटक अंधेर नगरी का मंचन राजेश तिवारी व संजय टुटेजा के निर्देशन में किया गया। इस अवसर पर कला संस्कृति व पर्यटन  मंत्री राजेन्द्र गौतम मुख्य अतिथि रहे जबकि बीवेयर एजुकेशन सोसायटी की अध्यक्ष नीलू आनंद, सुभाष गुप्ता तथा विद्या मैमोरियल एजुकेशन सोसायटी के अध्यक्ष अंशल त्यागी विशिष्ट अतिथि रहे। दिल्ली पर्यटन के अधिकारी राजेश जुनेजा व जेएस राघव व संस्था अध्यक्ष डीआर मेहता ने मंत्री राजेन्द्र गौतम का माल्यार्पण कर किया। नाटक की कहानी एक ऐसे मूर्ख व सनकी राजा के ईर्द गिर्द घूमती है जो अपने ही राज्य में आये एक साधू को फांसी की सजा सुनाता है और अंत में अपनी ही मूखर्ता के कारण खुद फांसी पर चढ़ जाता है। इस नाटक में अभिनय की दृष्टि से राजा की भूमिका में प्रथम बंसल, गुुरूजी की भूमिका में दिया गुप्ता, सिपाही बने नमन सचदेवा व रौनक सचदेवा, चेले बने सोरिश  खंडूजा व हिरदेश  गुरनानी, तथा सूत्रधार के रूप में आहाना वोहरा,,मीतांशी  अग्रवाल व रिया गुुप्ता ने सषक्त अभिनय किया। कोतवाल हर्षिल रहेजा, चूड़ीवाली के रूप में  अराध्या धींगड़ा, कारीगर बने शौर्य  गोयल, पान वाले की भूमिका में हार्दिक गुप्ता, कल्लू हलवाई के रूप में दिव्यांश अग्रवाल ने अपनी अपनी भूमिकाओं से  रोमांचित कर दिया। वरूण नरूला के  संगीत तथा  केशवी टुटेजा के गायन ने नाटक को गति दी।
           इस अवसर पर कला व संस्कृति मंत्री राजेन्द्र गौतम ने बाल कलाकारों की अभिनय क्षमता तथा संस्था के प्रयासों की सराहना करते हुए बच्चों की मौलिक प्रतिभा को विकसत करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि सरकार इस दिशा में गंभीर है, कला, ललित कलाओं व नवोदित प्रतिभाओं को बढावा देने के साथ साथ सरकार नवोदित प्रतिभाओं को प्रशिक्षण के अवसर व मंच प्रदान करेगी। उड़ान-द सेंटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट द्वारा आयोजित यह 78 वां बाल रंगमंच प्रशिक्षण शिविर था जिसमें एक माह तक बच्चों की मौलिक प्रतिभा को निखारने के साथ साथ उनमें आत्मविष्वास जगाने का प्रशिक्षण दिया गया। कार्यक्रम के दौरान उड़ान-द सेंटर आफ थियेटर आर्ट एण्ड चाइल्ड डवलपमेंट की ओर से सस्था अध्यक्ष डीआर मेहता, उपाध्यक्ष सुभाष गुप्ता व नीलू आनंद ने मंत्री राजेन्द्र गौतम को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।