गोरखपुर पेपरलीक मामले में तीन लोग हिरासत में 
 
  गोरखपुर (उप्र)। दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विविद्यालय पेपर लीक मामले में उप्र एसटीएफ ने पूछताछ के लिये तीन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है।    विवि के सूत्रों ने बताया कि इनमें से दो विविद्यालय के संबद्ध कॉलेजों से जुड़े हैं जबकि एक अन्य व्यक्ति है। इन्हें शनिवार को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।     
            बुधवार अप्रैल 17 को होने वाली गणित प्रथम और समाजशास्त्र द्वितीय परीक्षा के पेपर लीक होने की खबर के बाद इन परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया था। इसके बाद एसटीएफ ने विवि के अधिकारियों के साथ बैठक की और पेपर लीक के बारे में आवश्यक जानकारियां एकत्र कीं। एसटीएफ ने परीक्षा के उन पेपर के पैकेट की जांच भी की जो विवि के परीक्षा केंद्रो से वापस लौटे थे।
    गोरखपुर विवि के कुलपति वी केंिसह ने पेपर लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया और कमिश्नर ?अनिल कुमार को पत्र लिखकर इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग की थी। इसके बाद इस मामले को एसटीएफ को सौंप दिया गया था।    विवि के सूत्रों के मुताबिक एसटीएफ को कॉलेजों से लौटे कुछ पेपर के पैकेटों के साथ छेड़छाड़ मिली है। इस मामले में कुछ कोंचिंग सेंटर के मालिक, कुछ प्राइवेट कॉलेजों के मालिक तथा कुछ विवि के अधिकारी संदेह के घेरे में हैं।
    गोविवि के प्रवक्ता प्रो. हर्ष सिन्हा ने बताया कि एसटीएफ और विविद्यालय के अ?धिकारियों ने शुक्रवार को छह घंटे तक पेपर लीक मामले में जांच की तथा उन पेपर के पैकेटों को बारीकी से जांचा जो कॉलेजों तथा अन्य परीक्षा केंद्रों से वापस लौटे थे।    गौरतलब है कि बुधवार को होने वाली गणित और समाजशास्त्र की परीक्षा के पेपर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद विविदयालय प्रशासन ने इन दोनों पेपर की परीक्षा मंगलवार को रद्द कर दी थी।