नार्थ ईस्ट के छात्र छात्राओं को सम्मान देने का आहवान

 

  • रामलाल आनंद कालेज में हुआ कार्यक्रम 

 नई दिल्ली।  दिल्ली विश्वविद्यालय के  रामलाल आनंद कॉलेज   मे नार्थ ईस्ट सिमिति अरण्य दुवारा सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाया गया। जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में सेवा निवृत आईएएस एम.पी बेज़बरवा, एवं पीपी श्रीवास्तव विशिष्ट अतिथि रहे।  इस मौके पर कॉलेज के प्रिंसिपल सर डॉ राकेश कुमार गुप्ता ने उन का नार्थ ईस्ट के पारंपरिक तरीके से स्वागत किया। प्रिंसिपल डा राकेश कुमार गुप्ता ने अपने वक्तव्य मे कहा कि भारत  विभिन्ता वाला देश हे । यह विभिन्नता ही भारत की पहचान हैं जिसको हम सब को बरकरार रखनी है । हम को नार्थ ईस्ट भारत को जानना हे।  वहा की प्रकृतिक सुदरता को हम को जनाना है। एक मजबूत भारत का निर्माण तभी हो पायेगा जब हम भारत को जानेगे।  पीपी श्रीवास्तव  ने कहा कि हम भारतीयों को अपनी सभ्यता , संस्कृति पर गर्व करना चाहिए। नार्थ ईस्ट भारत का एक अभिन अंग है। नार्थ ईस्ट के लोगो के साथ किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चहिए। शिक्षा संस्थानों मे यह देखने मे आता है कि नार्थ ईस्ट के लोगो के साथ गलत व्यवहार होता हैं। इसका  मुख्य कारण वह यह है कि नार्थ ईस्ट के द्दात्र शिक्षा संस्थानो मे दूसरे छात्रों से  आपसी मेल मिलाप से दूर रहते.है।  उन्होंने कहा कि हम को सत्यता , ईमानदारी ,और पारदर्शिता को जीवन में अपनाने की आवश्यकता है।  ऍम.पी बेज़बरवा   ने कहा कि मेरा जन्म मिजोरम मे हुआ इसलिये  नार्थ ईस्ट के साथ मेरा पुराना नाता हैं।  आज नार्थ ईस्ट की सुदरता के कारण ही भारत की सुदरता मे चांद चाँद लगा है।  उन्होंने कहा कि मेरे माध्यम से बेज़बरवा कमेटी बनाई गई । इस कमेटी का उद्दयेश्य सरकारं के सामने नार्थ ईस्ट के लोगो की समस्याओ को रखना हैं।  उन्होंने कहा कि नार्थ ईस्ट के लोगो के साथ बुरा बर्ताव होता हैं। पुलिस भी उन की बात नहीं सुनती हैं। सरकार को कानून को और मजबूत बनाना होगा। आज नार्थ ईस्ट के लोग क्यो जा रहे हैं। नार्थ ईस्ट के राज्यो मे विकास नहीं हे। शिक्षा के संस्थाओं का नामो निशान नहीं हैं। लोग सरकार के विकासशील परियोजनओं का विरोध करते है।  सरकार फैक्ट्री , सड़को, आधी का निर्माण करती हैं । इसलिये सरकार का विरोध भी होता है। नार्थ ईस्ट के लोगो को अपने हको को लेकर जागरूक होना होगा। लोगो को सरकार को बोलना होगा की हम को पढ़ने के लिये स्कूल, कॉलेज की जरूरत हैं। आप लोगो को अपने  प्रतिनिधियो से सवाल पूछना है कि हमारे लिये संसाधन कब उपलब्ध करोगे।   उन्होंने कहा कि शिक्षा ,रोजगार , के माध्यम से नार्थ ईस्ट की समस्या से निपटा जा सकता है। इस मौके पर कॉलेज के छात्रों दवारा संस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। और अतः मे कॉलेज के छात्रों ने अथितियो से प्रश्न भी किए।