आईआईटी ने खोजा स्तन कैंसर की जल्द पहचान का तरीका 
 
   नयी दिल्ली । भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), रोपड़ के अनुसंधानकर्ताओं ने दावा किया कि संस्थान ने सभी उम्र की महिलाओं में स्तन कैंसर की जल्द पहचान के लिए एक नये तरीके की खोज की है जो तेज, दर्दरहित है और साथ ही इसमें स्पर्श की जरूरत नहीं है।  
        प्रस्तावित तकनीक में स्तन से निकलने वाले इन्फ्रारेड उत्सर्जन का इस्तेमाल उसके अंदर बहुत शुरूआती स्तर पर ट्यूमर का पता लगाने के लिए किया जाता है।  अनुसंधान से जुड़े इलेक्ट्रिकल इंजीनियंरिंग विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर रविबाबू मुलावीसला ने कहा, ‘‘इन्फ्रारेड थर्मोग्राफी (आईआरटी) स्तन कैंसर की जल्द पहचान के लिए मैमोग्राफी, अल्ट्रासाउंड और मैग्नेटिक रिजोनेंस की तुलना में दर्दरहित और बिना स्पर्श वाला तथा बिना चीरा लगाये इस्तेमाल में लाये जाने वाला तरीका है।’’  उन्होंने कहा कि स्तन कैंसर की पहचान का सर्वाधिक प्रचलित तरीका मैमोग्राफी है जिसकी ट्यूमर पता लगाने की अपनी सीमाएं हैं।