आईआईटी खडगपुर करेंगा हुगली नदी की सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण
 
 
कोलकाता । आईआईटी खड़गपुर ने हुगली नदी के किनारे बसे शहर और कस्बों की समृद्ध सांस्कृतिक विरासतों के संरक्षण के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की है।
  आईआईटी खड़गपुर ने अपने एक बयान में कहा कि परियोजना के तहत कोलकाता के नजदीक  हुगली नदी के किनारे पांच पूर्व व्यापार चौकियों और गैरीसन बस्तियों - बंडेल , चिन्सुरा , चन्दरनगर , सेरामपुर और बैरकपुर पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। बंडेल में पुर्तगाली, चिन्सुरा में डच, बैरकपुर में ब्रिटिश, चंदेरनगर में फ्रेंच और सेरामपुर में डेनमार्क की संस्कृति की झलक मिलती है।  बयान में बताया गया है कि आईआईटी खड़गपुर के मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान विभाग ने ब्रिटेन के लिवरपूल विविद्यालय के साथ मिलकर इस पहल की शुरुआत की है। आईआईटी खड़गपुर की ओर से प्रमुख जांचकर्ता  प्रोफेसर जेनिया मुखर्जी ने कहा , ‘‘ ये स्थान कोलकाता के आसपास के हर हैं जिनके बारे में ज्यादा जानकारी लोगों को नहीं है। इन शहरो में सदियों पुरानी इमारतों की जगह अपार्टमेंट , मल्टीप्लेक्स आदि के लिए रास्ते बनाए जा रहे हैं। ’’   उन्होंने कहा कि सदियों पुरानी इमारतों का संरक्षण इस पहल की प्राथमिकता है।