एफआईआर के बाद प्रोफेसर का प्रशासनिक पदों से इस्तीफा

जेएनयू प्रोफेसर विवि के स्कूल ऑफ लाइफ साइंसेज में कार्यरत,
कुछ छात्राओं ने उनपर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए
प्रशासन ने छात्राओं को किया आश्वस्त, 
विवि के नियमों के तहत कोई उपयुक्त निकाय उनके मामले की जांच करेगा

नई दिल्ली। छात्राओं की ओर से यौन उत्पीड़न के आरोप झेल रहे जवाहरलाल नेहरू विविद्यालय के प्रोफेसर ने सभी प्रशासनिक पदों ने इस्तीफा दे दिया है। यह जानकारी विवि प्रशासन ने दी है। विवि के रजिस्ट्रार ने बताया कि स्कूल ऑफ लाइफ साइंसेज के एक प्रोफेसर के खिलाफ मौखिक शिकायत लेकर कुछ छात्राओं ने विवि के शीर्ष प्रशासन से मुलाकात की है और प्रशासन ने उन्हें आश्वस्त किया है कि विवि के नियमों के तहत कोई उपयुक्त निकाय उनके मामले को देखेगा। वहीं छात्राओं के आरोपों के आधार पर प्रोफेसर के खिलाफ वसंतकुंज थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है और जल्द पुलिस उनसे पूछताछ करेगी। प्रोफेसर विवि के स्कूल ऑफ लाइफ साइंसेज में पढ़ाते हैं और स्कूल की कुछ छात्राओं ने उनपर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाये थे। वहीं इससे पहले स्कूल ऑफ लाइफ साइंसेज से बड़ी संख्या में छात्राओं ने धरना दिया था और स्कूल के डीन से मांग की कि प्रोफेसर को सभी आधिकारिक पदों से निलंबित किया जाए और उनके खिलाफ जांच शुरू की जाए। प्रदर्शन में जेएनयू छात्र संघ के सदस्य, परित्यक्त जेंडर सेंसीटाइजेशन कमिटी अगेंस्ट सेक्सुअल हरासमेंट (जीएससीएएसएच) के प्रतिनिधि औरंिपजरा टॉड के सदस्यों ने हिस्सा लिया। वहीं डीन को लिखे पत्र में छात्राओं ने कहा था चूंकि आप जानते हैं कि प्रोफेसर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है और वह कई अधिकार वाले पदों पर हैं और विविद्यालय में पदधारक हैं, इसलिए हम कुलपति और विविद्यालय प्रशासन से मांग करते हैं कि उन्हें सभी पदों से निलंबित किया जाए।