शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिये उठाये कई कदम :अरूणा

चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने शिक्षा क्षेत्र को देश में अग्रणी बनाने के लिये कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।
  यह जानकारी शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी ने आज यहां दी ।उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले साल 14 नवंबर को प्री प्राईमरी   कक्षाएं आरम्भ की गईं ।  तीन से छह वर्ष आयु वर्ग के लगभग 1.60 लाख छात्रों को भर्ती किया गया है। इसके अलावा सेवा नियमों में संशोधन करके सीमावर्ती  जिलों के शिक्षा प्रशासकों और अध्यापकों का अलग कैडर कायम किया गया । इस कैडर के शिक्षक अपने जिलों में पदोन्नति प्राप्त करने में सक्षम होंगे। 
   उन्होंने बताया कि शिक्षा के स्तर में सुधार करने के लिये प्री-प्राइमरी, प्राइमरी और मिडिल स्तर पर छाों में सीखने का स्तर बढ़ाने के उद्देश्य से पढ़ो पंजाब-पढ़ाओ पंजाब  कार्यक्रम भी शुरू किया गया। शिक्षकों का प्रशिक्षण सुनिश्चित बनाया गया। आर्ट एंड क्राफ्ट, ईटीटी और मास्टर काडर में लगभग 1645 शिक्षक भर्ती किए गए। मास्टर कैडर में 3582 और अध्यापकों की नियुक्ति प्रक्रिया जारी है जो जल्द पूरी हो जाएगी। इसके अलावा 1800 अध्यापकों की सेवाओं को पक्का किया गया है और अनुकंपा के आधार पर 174 उम्मीदवारों को नौकरियां दी गई है।
      श्रीमती चौधरी ने कहा कि पदोन्नतियों में स्थिरता को तोड़ते हुए, ¨प्रसीपल काडर से आठ अध्यापकों को डिप्टी डायरैक्टर, 551 पदोन्नतियां मास्टर काडर से हैड मास्टर काडर में ,जेबीटी/ईटीटी 725 पदोन्नतियां मास्टर कैडर में और सैन्टर हैड टीचर से 101 पदोनन्नतियां बीपीईओं में की गई। 
    उन्होंने कहा कि फतेहगढ़ साहिब और मोहाली जिले में पायलट परियोजना के तौर पर मोबाईल आधारित उपस्थिति के लिए बायोमीट्रिक पण्राली आरम्भ की गई है। सभी जिलों के सरकारी स्कूलों में बायोमेट्रिक आधारित उपस्थिति पण्राली आरम्भ करने का प्रस्ताव है । 
   उन्होंने कहा कि शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए स्कूल ग्रेडिंग और बेहतरीन स्कूल अवार्ड जैसे कदम भी उठाए गए हैं । खेलों को प्रोत्साहन देने के लिए विभाग ने 2017-18 शेैक्षणिक सा के दौरान प्राईमरी स्तर के छाों के लिए राज्य स्तरीय खेल मुकाबले करवाये। यह खेल गत वर्ष नवंबर माह में पटियाला में करवाये गये । सैकेंडरी स्तर पर जिला , राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर वाषिर्क मुकाबले करवाये जाते हैं। 2017-18 के दौरान 63वीं स्कूल खेलों में पंजाब ने स्वर्ण के 70, रंजत के 128 और कांस्य के 207(कुल 405) पदक जीतकर सातवां स्थान हासिल किया। 
   उन्होंने कहा कि पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड में भी सुधारों की प्रक्रिया आंरभ की गई है और बोर्ड ने पहली बार उत्तर पुस्तिकाओं के पुन: मूल्याकंन की पण्राली आंरभ की है। पुन: मूल्याकंन की इस पण्राली तहत बोर्ड आवेदन पहली अप्रैल 2018 से आवेदन आनलाईन लेगा। प्रमाणपाों में जन्म तिथि किसी भी समय करवाई जा सकती है। पहले इसके लिए कई शत्रे लागू थी।
 श्रीमती चौधरी ने कहा कि शिक्षा बोर्ड के ढांचे का पुनर्गठन मुकम्मल हो गया है जिससे बोर्ड के खचरें में कटौती होगी।  बोर्ड की कार्यपण्राली का भी कम्प्यूटरीकरन हो रहा है। बोर्ड की विभिन्न सेवाओं को भी ऑनलाइन कर दिया गया।पहली से आठवीं तक के अनुसूचित जाति के छाों को पाठ्यक्रम की पुस्तकें मुफ़्त मुहैया करवाई जा रही हैं।सर्व शिक्षा अभियान के तहत पहली से आठवीं तक अजा /जनजाति  /बीपीएल लड़कों और सभी वगरें की लड़कियाँ को मुफ़्त स्कूली वर्दी देने का प्रस्ताव है।