पीसीएस (जे) परीक्षा में ऑटो चालक की बेटी अव्वल स्थान पर

देहरादून । अगर हौंसले बुलंद हो मंजिल पाना आसान हो जाता है इस कहावत को चरितार्थ कर लिखाया एक ऑटो चालक की बेटी ने। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग द्वारा राज्य न्यायिक सेवा (पीसीएस-जे) की परीक्षा परिणाम घोषित हो गये है। इस परीक्षा में ऑटो चालक की बेटी पूनम टोडी ने सर्वाधिक अंक के साथ प्रथम स्थान हासिल कर इतिहास रच दिया।
       उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने राज्य न्यायिक सेवा सिविल जज (जूनियर डिवीजन) परीक्षा 2016 के परिणाम बुधवार शामि घोषित किये गये जिसमें बेटियों ने अपना जलवा बिखेरा। आयोग ने लिखित परीक्षा के बाद साक्षात्कार का परिणाम घोषित किया। पहले तीन स्थानों पर बेटियों ने कब्जा कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। नेहरु कॉलोनी निवासी पूनम टोडी प्रथम, पल्लवी गुप्ता दूसरे और उर्वशी रावत तीसरे स्थान पर रहीं। आयोग ने गत वर्ष 30 अक्टूबर से दो नवंबर तक राज्य न्यायिक सेवा सिविल जज (जूनियर डिवीजन.) परीक्षा 2016 की मुख्य परीक्षा आयोजित की थी। साक्षात्कार के आधार पर चयनित अभ्यर्थियों में शैलेंद्र कुमार यादव ने चौथा, चैराब बा ने पांचवां, करिश्मा डंगवाल ने छठा, तनूजा कश्यप ने सातवां और मनोज सिंह राणा ने आठवां स्थान प्राप्त किया है। 
       उल्लेखनीय है पीसीएस-जे में प्रथम स्थान प्राप्त पूनम टोडा देहरादून के नेहरू कॉलोनी के बी ब्लॉक में रहने वाले ऑटो चालक अशोक टोडा की बेटी है। पूनम ने बीकॉम, एमकॉम, एलएलबी किया है। आजकल वह  टिहरी के चंबा से एलएलएम कर रही हैं। पढ़ाई के साथ ही पूनम ने उत्तर प्रदेश एपीओ का पेपर पास कर लिया था। 
       पूनम टोडी ने मीडिया को बताया कि पीसीएस (जे) को पास करना उनका सपना था और आज वह सपना साकार हो गया है। उनकी माता गृहणी हैं। उनकी एक बड़ी बहन और दो भाई हैं। इससे पहले भी दो बार इस परीक्षा का मौखिक परीक्षा पास कर साक्षात्कार दे चुकी थी लेकिन दोनों ही बार उनके हाथ निराशा ही लगी लेकिन तीसरी बार आखिरकार पूनम की मेहनत रंग लाई और उसने अव्वल स्थान हासिल किया। पूनम अपनी इस सफलता का श्रेय अपने परिवार को देती हैं।
       पूनम ने बताया कि उनके पिता अशोक कुमार टोडी ऑटो चालक हैं और देहरादून में ही 30 साल से ऑटो चलाते हैं। पूनम ने पिता की मेहनत से प्रेरित होकर अपनी पढ़ाई में ध्यान लगाया और आज उनकी मेहनत रंग लाई है।