डीपीएस बस हादसा : गिरफ्तारी के बाद स्कूल प्राचार्य को जेल भेजा गया


      इंदौर।  दिल्ली पब्लिक स्कूर्ल डीपीएसी  की बस के पिछले महीने भीषण हादसे के शिकार होने के मामले में पुलिस ने इस निजी शिक्षण संस्थान के प्राचार्य को आज गिरफ्तार किया। इस हादसे में चार स्कूली बच्चों की मौत से आवोशित पालक प्राचार्य की गिरफ्तारी की मांग के साथ लम्बे समय से प्रदर्शन कर रहे थे।
     पुलिस उप महानिरीक्षक डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्रा ने बताया कि स्कूल बसों के परिवहन और रख-रखाव से संबंधित नियम-कायदों के कथित उल्लंघन के कारण डीपीएस के प्राचार्य सुदर्शन सोनार को गिरफ्तार किया गया। 
    गिरफ्तारी के बाद स्कूल प्राचार्य को एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी और उसे 22 फरवरी तक न्यायिक हिरासत के तहत जेल भेजने का आदेश दिया। 
   सोनार को न्यायाधीश के सामने पेश किये जाने के दौरान बडी संख्या में पालक जिला न्यायालय परिसर में जमा हो गये। डीपीएस की दुर्घटनाग्रस्त बस में लगे गति नियंत्रक स्पीड गवर्नरी में गडबडी के खुलासे के बाद निजी स्कूल के परिवहन अधिकारी समेत तीन लोगों को भारतीय दंड विधान की सम्बद्ध धाराओं के तहत पहले ही पकडा जा चुका है। इनमें स्पीड गवर्नर लगाने में फर्जीवाड-ा करने वाली एक स्थानीय फर्म का मालिक और उसका कर्मचारी शामिल है। 
    जिला लोक अभियोजन अधिकारी मोहम्मद अकरम शेख ने बताया कि पुलिस ने मामले की जांच के आधार पर प्राथमिकी में भारतीय दंड विधान की धारा 18र्8 किसी सरकारी अधिकारी के आदेश की अवज्ञी भी हाल ही में जोड-ी है।
    आरोप है कि निजी फर्म को कुछ रकम देकर उससे इस बात का फर्जी प्रमाण पत्र ले लिया गया कि डीपीएस की बस में लगा स्पीड गवर्नर सही काम कर रहा है, जबकि वाहनों की गति सीमित करने वाले इस उपकरण को तकनीकी छेड-छाड के जरिये जान-बूझकर खराब कर दिया गया था। 
    पुलिस को मामले की जांच में पता चला कि हादसे के वक्त स्कूल बस 60 किलोमीटर प्रति घंटा से ज्यादा की रफ्तार से दौड रही थी, जबकि परिवहन विभाग के आदेशों के मुताबिक इस वाहन में स्पीड गवर्नर लगने के बाद उसकी गति 40 किलोमीटर प्रति घंटा से ज्यादा नहीं होनी चाहिये थी। 
     डीपीएस की यह तेज रफ्तार बस कनाडिया क्षेत्र के बायपास रोड पर पांच जनवरी की शाम इस कदर अनियंत्रित हो गयी कि वह डिवाइडर फांदकर समानांतर लेन में जा घुसी और सामने से आ रहे ट्रक से भिड- गयी थी। हादसे में छह से लेकर 13 वर्ष की आयु वाले चार स्कूली बच्चों के साथ बस ड्राइवर की मौत हो गयी थी।