उत्तराखंड में राजीव गांधी नवोदय विद्यालय के 44 बच्चे बीमार


 उत्तरकाशी।  चिन्यालीसौड के राजीव गांधी नवोदय विद्यालय के दूषित खानपान और सीलन भरे कमरे में रहने के कारण 44 बच्चे बीमार हो गये हैं जिनमें से किसी को सर्दी, खांसी है तो कोई बुखार से पीडति है। 
    यह खुलासा कल विद्यालय में बच्चों की जांच के लिए गई डॉक्टरों की टीम ने किया। चिन्यालीसौड सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. जितेंद्र भंडारी ने छात्रों की जांच करने के बाद बताया कि विद्यालय में रहने वाले 105 छात्रों में से 44 या तो वायरल बुखार की चपेट में हैं या उन्हें सर्दी और खांसी है । इसके बाद डॉक्टर ने छात्रों का उपचार किया और दवाएं वितरित कर खानपान में सावधानी बरतने को कहा। डॉ भंडारी ने बताया कि बच्चे दूषित खान-पान और सीलन भरे कमरे में रहने के कारण बीमार हैं। इस बारे में संपर्क किये जाने पर विद्यालय के प्रधानाचार्य संजय कुमार ने बताया कि कुछ दिन पूर्व एक-दो छात्रों को खांसी की शिकायत थी जो उपचार कराने के बाद ठीक हो गए थे। हालांकि, उन्होंने कहा कि इतने छात्रों के वायरल बुखार से पीडति होने के बारे में उन्हें कोई अंदाजा नहीं था। 
     प्रधानाचार्य ने कहा कि यदि उपचार के बाद भी छात्रों की हालत नहीं सुधरी तो उन्हें छुट्टी पर भेज दिया जायेगा। 
      बुधवार को नगर पालिका अध्यक्ष शूरवीरंिसह रांगड ने पालिका टीम के साथ विद्यालय का औचक निरीक्षण किया था जिस दौरान उन्हें स्कूल में अजीब सी बदबू आई और जगह-जगह गंदगी भी दिखाई दी। पालिका अध्यक्ष को बच्चों से बातचीत के दौरान बच्चों की हालत ठीक न होने की बात महसूस हुई जिसके बाद उन्होंने चिकित्सकों को विद्यालय में बच्चों की जांच करने के निर्देश दिए।  
       रांगड ने कहा, ‘‘स्कूल में शौचालय नहीं है और इसके लिए मैंने दो लाख रुपये देकर स्कूल के अधिकारियों को तत्काल शौचालय बनवाने को कहा है ।’’
       सीबीएसई से संबद्ध यह स्कूल अस्थायी परिसर में चल रहा है और इसके पास अपनी इमारत और छात्रावास भी नहीं है जिसकी वजह से 2025 बच्चों को न केवल एक छोटे से कमरे में एक साथ पढाई करनी पडती है, बल्कि वहीं सोना भी पडता है ।