शिक्षामित्रों की सूची की जांच कराये सरकार: सभापति
 
लखनऊ।  उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव ने अपनी मांगों के समर्थन में धरना-प्रदर्शन के दौरान कथित रूप से अपनी जान गंवाने वाले शिक्षामित्रों की सूची की जांच के निर्देश दिये।
प्रश्नकाल के दौरान सपा सदस्य आनन्द भदौरिया ने यह मुद्दा उठाते हुए सरकार से पूछा कि अपनी मांगों के समर्थन में पूरे प्रदेश में धरना-प्रदर्शन के दौरान कितने शिक्षामित्रों की मौत हुई। 
बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने इसका जवाब देते हुए कहा कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के मुताबिक इन धरना कार्यवमों के दौरान किसी भी शिक्षामित्र की मौत नहीं हुई। उन्होंने कहा कि सरकार ने शिक्षा मित्रों को शिक्षक भर्तियों में आयुसीमा में रियायत और वरीयता प्रदान की है।
भदौरिया ने पूरक प्रश्न में कहा कि उनके पास 104 ऐसे शिक्षामित्रों के नामों की सूची है जिनकी अपनी मांगें पूरी करने के लिये आयोजित धरना-प्रदर्शनों के दौरान मौत हो गयी । क्या सरकार इस सूची की जांच कराकर मुआवजा दिलाएगी। सपा सदस्य नरेश उत्तम ने भी सूचना की ग्राह्यता पर बल देते हुए सूची की जांच कराने का आग्रह किया। सभापति रमेश यादव ने सरकार से कहा कि वह सूची की जांच कराकर आवश्यक कार्यवाही करे।