आधुनिक शिक्षा से दूर हैं बिहार के स्कूल:सदानंद

पटना। बिहार कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने आधुनिक शिक्षा पद्धति को समय की जरूरत बताते हुए कहा कि प्रदेश के स्कूल आज भी आधुनिक शिक्षा से दूर हैं। 
                      श्री सिंह ने आज यहां कहा कि शिक्षा सा 2017-18 के दस माह बीत जाने के बाद भी राज्य के स्कूल आधुनिक शिक्षा से दूर हैं। नवमी से बारहवीं तक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए चालू सत्र में एक हजार स्कूलों में वचरुअल क्लास रूम शुरू करने की बात सरकार ने कही थी। लेकिन सत्र की अवधि तकरीबन खत्म होने के बाजवूद स्थिति यह है कि अभी तक स्कूलों का ही चयन भी नहीं हो पाया है। इसका सर्वाधिक खामियाजा विद्यार्थियों को उठाना पड़ रहा है क्योंकि वे अब भी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से वंचित हैं 7
                     कांग्रेस नेता ने कहा कि स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई के लिए राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत उच्च एवं  उच्चत्तर माध्यमिक स्कूलों में वचरुअल क्लासेज शुरू करनी है। जहाँ कंप्यूटर और इन्टरनेट के माध्यम से बच्चों को उच्च स्तरीय शिक्षा प्रदान की जाएगी। इसके तहत राज्य के या राज्य से बाहर के योग्य शिक्षकों के द्वारा दृश्य एवं श्रव्य माध्यमों से स्कूली छात्र/छात्ररओं को पढ़ाया जा सकेगा। शिक्षा विभाग की निष्क्रियता की वजह से विद्यार्थियों को अबतक यह सुविधा नहीं मिल पाई है। शिक्षा पर सर्वाधिक बजट शिक्षा विभाग का होने के बावजूद सरकार बच्चों को उच्च स्तरीय शिक्षा देने में विफल रही है।