एनआईटी के पूर्व छात्र छत्तीसगढ़ के विकास में करे योगदान-रमन

रायपुर 25 दिसम्बर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने यहां के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के देश विदेश से आए पूर्व छाों का राज्य में स्वागत करते हुए उनसे छत्तीसगढ़ के विकास में सक्रिय योगदान देने का आव्हान किया। 
     डा.सिंह ने आज यहां भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान और शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के भूतपूर्व छात्रो के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इस संस्थान के छात्रों ने अपने ज्ञान, प्रतिभा और छत्तीसगढ़ की माटी से मिले संस्कारों से दुनिया में छत्तीसगढ़ और इस संस्थान का नाम रौशन किया है। उन्होने कहा कि छत्तीसगढ़ तेजी से बदल रहा है।बाहर से आने वाले छात्रों ने राजधानी रायपुर को देखकर इस बदलाव को महसूस किया होगा।  
      उन्होंने कहा कि भिलाई और रायगढ़ जैसे शहरों के साथ-साथ बस्तर संभाग के दूरस्थ अंचलों के बीजापुर, दंतेवाड़ा, सुकमा जिलों में भी जाकर वहां विकास कायरें को देखा जा सकता है। दंतेवाड़ा में एजुकेशन हब एशिया के बेहतर शिक्षण संस्थानों में एक है। लगभग 16 हजार करोड़ रूपए की लागत से नगरनार में इस्पात संयां बनकर तैयार हो रहा है। जल्द ही बस्तर और सरगुजा सहित छत्तीसगढ़ के सात शहर एयर कनेक्टिविटी से जुड़ जाएंगे। जगदलपुर रेल लाइन से जुड़ रहा है। मुख्यमंत्री ने नया रायपुर, जंगल सफारी, बाटनिकल गार्डन के भ्रमण का आमंत्रण सम्मेलन में शामिल छात्रों को दिया। 
     उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग संस्था क्रिसिल और भारतीय रिजर्व बैंक की रिपोटरें का उल्लेख करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ आज वित्तीय प्रबंधन, सुशासन, मेन्युफेश्ररिंग, सेवा क्षेत्र और सामाजिक क्षेत्र में सर्वाधिक निवेश करने वाले देश के सर्वश्रेष्ठ राज्यों में पहले और दूसरे नंबर पर है।विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल एवं सांसद अभिषेक सिंह ने भी सम्मेलन को संबोधित  किया।
     नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांसड स्टडिज बैंगलोर के निदेशक डॉ.बलदेव राज ने कहा कि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान अच्छे संस्कारों के साथ इंजीनियरिंग के ऐसे छात्र तैयार कर रहा है जो तकनीकी के लिए समर्पित हैं। उन्होंने छत्तीसगढ़ को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने के लिए छात्रों से सक्रिय सहयोग का आव्हान किया। मुख्यमंत्री ने इसके पहले संस्थान के भूतपूर्व छात्रों से बातचीत की और उन्हें छत्तीसगढ़ में उद्योग और सेवा के क्षेत्र में उपलब्ध अवसरों की जानकारी दी। इस अवसर पर बड़ी संख्या में संस्थान के भूतपूर्व छात्र उपस्थित थे।