बालिका विद्यालयों में पीटी कक्षाओं के लिए महिला परिचारिका अनिवार्य हो     


             कोलकाता। पश्चिम बंगाल सरकार विद्यालयों से यह सुनिश्चित करने को कहेगी कि सह शिक्षा संस्थानों या बालिका विद्यालयों में यदि पुरष प्रशिक्षक लड़कियों के खेल-कूद सत्र का संचालन करते हैं तो उस दौरान आसपास महिला परिचारिकाएं होनी चाहिए।
            जी डी बिड़ला स्कूल की घटना के बाद यह निर्देश आया है। इस स्कूल में नर्सरी की चार साल की एक छात्रा पर दो प्रशिक्षकों ने कथित रप से यौन हमला किया। इस घटना से भयंकर जनाक्रोश फैला था।
             राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कल यहां संवाददाताओं से कहा,   क्या हम जी डी बिड़ला सेंटर ऑफ एजुकेशन की एक घटना को लेकर अन्य विद्यालयों में पुरष पीटी शिक्षकों की सेवाएं खत्म कर सकते हैं। ऐसे पुरष पीटी शिक्षकों पर तो ऐसे आरोप नहीं हैं। अतएव हमें रास्ता ढूढना होगा। हम सिफारिश कर रहे हैं कि लड़कियों की सुरक्षा के लिए, जब पीटी शिक्षक कक्षा ले रहे हों तब आसपास एक महिला परिचारिका होनी चाहिए।   
             मंत्री ने यह भी कहा कि उनके विभाग ने लड़कियों के परिसरों और सह शिक्षा विद्यालयों में महिला परिचारिकाओं की संख्या यथाशीघ बढ़ाने को कहा है।