स्कूलों के लिए उत्त्तराखंड सरकार ने ओएनजीसी, टीएचडीसी से सहयोग मांगा 

            देहरादून।  उत्त्तराखंड सरकार ने आज प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में शौचालय, पेयजल तथा फर्नीचर जैसी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने में ओएनजीसी और टीएचडीसी जैसी कंपनियों से अधिक से अधिक सहयोग करने का आग्रह किया। 
           प्रदेश के विद्यालयों में मूलभूत सुविधाओं को लेकर राज्य सरकार, शिक्षा विभाग, ओएनजीसी तथा टीएचडीसी अधिकारियों के साथ यहां एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि विद्यालयों को सुविधायें उपलब्ध कराने में अपना योगदान दे रही ओएनजीसी, टीएचडीसी आदि संस्थाओं से अपेक्षा है कि वे इसमें अधिक से अधिक सहयोग दें। 
          यहां जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, विद्यालयों में शौचालय निर्माण, पेयजल संयोजन के साथ ही फर्नीचर आदि आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराने में इन संस्थाओं से प्राथमिकता से सहयोग देने का आग्रह करते हुए सिंह ने कहा कि इनके द्वारा प्रदेश में विद्यालयों के विकास के लिए दी जा राशि इन संस्थाओं के स्तर के हिसाब से कम है। 
          उन्होंने ओएनजीसी एवं टीएचडीसी के अधिकारियों से आवंटित राशि बढ़ाने को भी कहा। मुख्य सचिव ने शिक्षा सचिव डा.भूपिंदर कौर औलख से इस संबंध में एक विस्तृत प्रस्ताव बनाकर ओएनजीसी एवं टीएसडीसी को देने को कहा। सिंह ने प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के विद्यालयों में मूलभूत आवश्यकताओं में और अधिक सुधार करने के लिए निजी क्षेत्र से भी आगे आने को कहा। 
          उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि इन संस्थाओं द्वारा विद्यालयों के बारे में मांगी जाने वाली सूचनायें उन्हें प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध करायी जाये। स्वच्छ भारत  अभियान के अंतर्गत विद्यालयों में निर्मित व निर्माणाधीन शौचालयों एवं पेयजल संयोजन के लिए प्रस्ताव बनाने के निर्देश देते हुए मुख्य सचिव ने शौचालयों में पानी की उचित व्यवस्था रखने को कहा। उन्होंने यह भी कहा कि दस दिन बाद सभी कायरे की दोबारा समीक्षा की जायेगी।