डॉ हरिसिंह विवि में जल्द ही रिक्त पदों पर भर्ती होगी 

सागर। मध्यप्रदेश के सागर में स्थित डॉ हरिसिंह गौर केद्रीय विविधालय के चॉसलर. प्रो.बलवंत राय शांतिलाल जॉनी ने कहा कि विज्ञान के साथ-साथ अन्य विषयों पर विशेष जोर दिया जावेगा। विशेष रुप से रखी पांडुलिपियों को संरक्षित कर कैटलाग तैयार किया जाएगा। 
      उन्होंने कहा कि विवि के रिक्त पदों पर शीघ ही भर्ती कर दी जाएगी। पैरामेडीकल पाठयक्रम भी शुरू किया जाएगा। जो विवि से ही संबद्ध रहेंगे। भारत सरकार द्वारा केद्रीय शिक्षण संस्थाओ को इंस्टीटयूट ऑफ एक्सीलेंस का दर्जा देना चाहते हैं। ऐसे संस्थाओ की संख्या देश भर में सात सौ पचास हैं। जिनमे से दस को दर्जा दिया जाएगा। दर्जे के लिए मापदंड निधारित किये गए है।
   उन्होंने कहा कि डॉ.गौर सागर विवि को विश्व के पटल पर प्रस्थापित करना चाहते हैं। विवि के प्राचीन इतिहास विभाग में वैदिक काल की ज्ञारहवीं शताब्दी मूर्तियों के साथ जैन धर्म के तीर्थकय सुपाशवनाथ की प्राचीन मूर्ति रखी है। जिनको म्यूजियम में रखवाया जाएगा। जिनको देखने विदेशी आएगे।  उन्होंने कहा कि विवि में मटीरियल साइंस और मौसम से संबंधित नए विभाग भी शुरू किए जाएगा।