दुष्कर्म की शिकार दो छाओं को स्कूल से निकाला


यमुनानगर। हरियाणा के यमुनानगर में दुष्कर्म की शिकार हुई दो छाओं को स्कूल से निकाले जाने का एक मामला सामने आया है। 
      हरियाणा राज्य बाल सरक्षंण आयोग  के सदस्य परमजीत सिंह बढोला ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पीड़तिाओं की एक गुप्त चिट्ठी मिलने के बाद उनकी टीम ने पुलिस के साथ मामले की जांच की और इसे सही पाया। उन्होंने बताया कि इसके बाद पुलिस को आपराधिक मामला दर्ज करने का निर्देश दिया गया है। 
      पूरी घटना इस प्रकार है कि यमुनानगर के कैंप इलाके में स्थित सरकारी स्कूल में 9वीं कक्षा में पढ़ने वाली दो छाओं को कुछ दिन पहले स्कूल जाते समय बीच रास्ते में दो परिचित बहला-फुसला कर कार में ले गये और उनके साथ दुष्कर्म  किया। अगले दिन इस बात की जानकारी छात्राओं ने खुद स्कूल टीचरों को दी,  मगर स्कूल स्टाफ ने इस घटना की जानकारी पुलिस को देने के बजाय खुद मामले की जांच करने का‘फैसला’लिया और‘जांच’के बाद दोनों छात्राओं का नाम स्कूल से काट दिया गया। 
       वढोला ने बताया कि छाओं की चिट्ठी मिलने के बाद पुलिस के साथ राज्य बाल सरक्षंण आयोग की टीम ने स्कूल जाकर मामले से जुड़े सभी पहलुओं को से खंगाला और पाया कि छात्राओं की शिकायत सही थी। 
      बढोला ने बताया कि चिट्ठी में बच्चियों ने यौन उत्पीड़न और स्कूल से नाम काटने की शिकायत की थी। उन्होंने बताया कि स्कूल प्रशासन ने मामले को दबाने का प्रयास किया और पुलिस को शिकायत देने की बजाए खुद अपनी टीम गठित कर मौके पर जाकर जांच की हैं, जो गलत और गैरकानूनी है।
  आयोग की टीम के साथ आई महिला पुलिस अधिकारी शीलावंती ने भी माना कि पूछताछ में खुलासा हुआ है कि बच्चियों के साथ रेप जैसी वारदात हुई लेकिन स्कूल प्रशासन ने पुलिस को बताने की बजाय मामला दबा दिया और कोई भी शिकायत लेकर सामने नहीं आया।