प्राथमिक शिक्षा में स्थानीय भाषाओं को प्राथमिकता देने की हिमायत    


       बेंगलुर। कन्नड़ भाषा और संस्कृति को बचाने के अपने संकल्प को पुन: जाहिर करते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आज एक बार फिर सभी राज्यों में प्राथमिक शिक्षा में क्षेत्रीय भाषा को शिक्षा का माध्यम बनाये जाने की हिमायत की। उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे को केंद्र के समक्ष उठाएंगे। 
       कर्नाटक के 62वें स्थापना दिवस के अवसर पर कांतीर्व स्टेडियम में एक समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वह इस बाबत जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखेंगे। 
       सिद्धारमैया ने कहा कि क्षेत्रीय भाषाओं को प्राथमिकता देने के लिए संविधान संशोधन का आग्रह करते हुए वह पहले ही दो बार प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिख चुके हैं। उन्होंने कहा,   माता-पिता अपने बच्चों को अंग्रेजी में पढ़ाना चाहते हैं, जो अच्छी प्रवृति नहीं है। मातृभाषा में पढ़ाई करने से विषय को समझना आसान हो जाता है।