गुरूकुल योजना में चयनित विद्यालयों की होगी प्रभावी निगरानी



जयपुर।  राजस्थान के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के मंत्री डॉ. अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि देवनारायण योजना के स्कूलों के निगरानी के लिए शिक्षा विभाग एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग व पिछड़ा वर्ग के प्रतिनिधियों की कमेटी बनाई जायेगी। 
     डॉ. अरूण चतुर्वेदी आज यहां देवनारायण योजना की समीक्षा हेतु गठित मंत्रिमंडलीय उप समिति की अध्यक्षता करते हुए कहा कि निरीक्षण के दौरान जो विद्यालय निर्धारित मापदण्डों के अनुरूप नहीं पाये जायेंगे उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि देवनारायण गुरूकुल योजना कक्षा 6 से 12 तक अध्ययनरत छात्र छात्राओं के लिए संचालित है। प्रत्येक वर्ष योजना में 500 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाता है। गुरूकुल योजना स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा संचालित की जा रही है।  उन्होंने बताया कि इस योजना में अब तक 48.21 करोड़ रुपये व्यय कर 10 हजार 260 विद्यार्थियों को लाभान्वित किया जा चुका है तथा वर्ष 2017-18 में 19 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है।
     बैठक में देवनारायण आवासीय विद्यालयों व छावासों में चारदीवारी ऊँची कराने, लम्बित छावृत्ति का भुगतान, बयाना में देवनारायण महाविद्यालय भवन का निर्माण पूर्ण कराने के लिए समबन्धित विभागों को आवश्यक निर्देश दिये।   बैठक में प्रशासनिक सुधार विभाग मंी हेमसिंह भड़ाना, गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला, हिम्मत सिंह एडवोकेट,  शैलेन्द्र सिंह सहित महिला एवं बाल विकास विभाग उच्च शिक्षा, वित्त विभाग, सार्वजनिक निर्माण विभाग, चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।