बच्चों को एमजीआर जन्मशती समारोहों में हिस्सा लेने के मजबूर ना करें: एचसी


         चेन्नई। मद्रास उच्च न्यायालय ने आज तमिलनाडु सरकार को निर्देश दिया कि वह स्कूली बच्चों को अन्नाद्रमुक के दिवंगत संस्थापक एम जी रामचंद्रन के जन्मशती समारोहों में हिस्सा लेने के लिए मजबूर ना करें।
         न्यायमूर्ति एस वैधनाथन और न्यायमूर्ति आर सुब्रहमण्यम की  खंडपीठ ने गैर सरकारी संगठन  चेंज इंडिया  की जनहित याचिका पर यह अंतरिम आदेश दिया। पीठ ने राज्य के मुख्य सचिव, स्कूल शिक्षा सचिव और पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिया कि बच्चों को दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री की जन्मशती मनाने के लिए आयोजित होने वाले किसी भी कार्यक्रम में नहीं ले जाया जाए।
         पीठ ने सार्वजनिक कार्यक्रमों में बच्चों की हिस्सेदारी के लिए मसौदा दिशानिर्देश तय करने की मांग को लेकर दायर याचिका विचारार्थ स्वीकार करते हुये इन अधिकारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले विशेष सरकारी वकील टी एन राजगोपाल को नोटिस जारी किया।
        याचिकाकर्ता ने हाल में आयी मीडिया की एक खबर की तरफ संकेत करते हुए कहा था कि चेन्नई से लगे कांचीपुरम जिले में कई सरकारी एवं निजी स्कूलों के छात्रों को कथित रूप से सरकार के निर्देश पर एमजीआर की जन्मशती समारोह में हिस्सा लेने के लिए मजबूर किया गया है।