भविष्य के लिये प्रखर पीढ़ी तैयार करें शिक्षक : निशंक
 
मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने किया 8वें उपायुक्त सम्मेलन का उद्घाटन
 
नई दिल्ली। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि बच्चों में अच्छी आदतें विकसित की जानी चाहिंए ताकि भविष्य  के लिये प्रखर व उद्यमशील पीढ़ी तैयार हो।
      केन्द्रीय मानव संसाधन विकास म़ंत्री डा रमेश पोखरियाल निखंक ने आज केन्द्रीय विद्यालय संगठन के 8वें उपायुक्त सम्मेलन का उद्घाटन किया। तीन दिन तक चलने वाले इस सम्मेलन में केन्द्रीय विद्यालय संगठन के 25 संभागों के उपायुक्त और 05 आंचलिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों के निदेशक भाग ले रहे हैं। इस अवसर पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री रामचंद्र मीणा विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे।
 
सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए डॉ. निशंक ने कहा कि किसी भी संस्थान में सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए उसके शीर्ष नेतृत्व में सकारात्मक दृष्टिकोण आवश्यक होता है। उन्होंने कहा कि कई बार छोटे-छोटे प्रयास समाज में बड़े परिवर्तन का कारण बनते हैं, इसलिए हम अपने विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चों में ऐसी आदतें विकसित करें जो आगे चलकर बड़े बदलाव लाएं। उन्होंने बच्चों में जल संरक्षण और स्वच्छता की आदत विकसित करने पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि सक्षम, समृद्ध भारत के लिए हमें समर्पित प्रखर, उद्यमशील पीढ़ी को तैयार करना है। देश का भावी नेतृत्व तैयार करने की जिम्मेदारी हमारे विद्यालयों की है।
 
केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री, जो केन्द्रीय विद्यालय संगठन के पदेन अध्यक्ष भी होते हैं, ने इस अवसर पर घोषणा की कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन के विभिन्न पदों के लिए हाल ही में संपन्न हुई परीक्षाओं के परिणाम एक सप्ताह के अंदर घोषित कर दिये जाएंगे। केन्द्रीय विद्यालय संगठन ये परिणाम 8 जुलाई 2019 को घोषित करेगा।
 
मानव संसाधन विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री रामचंद्र मीणा ने केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा शैक्षिक, खेल और कला व संस्कृति के विभिन्न मंचों पर उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए संगठन के समस्त वरिष्ठ नेतृत्व को बधाई दी।
 
के.वि.सं. आयुक्त श्री संतोष कुमार मल्ल ने मुख्य अतिथि एवं अन्य समस्त अतिथियों का स्वागत करते हुए इस तीन दिवसीय सम्मेलन की रूपरेखा रखी। अपर आयुक्त (प्रशा.) श्री सौरभ जैन ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया।