देश का पहली रेल यूनिवर्सिटी आज होगी राष्ट्र को समर्पित

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी शनिवार को देश की पहली रेल यूनिवर्सिटी को लोगों को समर्पित करेंगे. रूस और चीन के बाद यह दुनिया का तीसरी यूनिवर्सिटी है, जिसमें रेल के कामकाज से जुड़ी जानकारी दी जाएगी. बता दें, इस बात की जानकारी रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी.

पीयूष गोयल के अनुसार गुजरात के वडोदरा में बने राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान (एनआरटीआई) ने इस साल सितंबर में दो कोर्स में 20 राज्यों में से 103 छात्रों के पहले बैच को एडमिशन दिया था. विश्वविद्यालय ने दो ग्रेजुएट कोर्सेज ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी और ट्रांसपोर्टेशन मैनेजमेंट में बीबीए शुरू किया है. 
वहीं इस मौके पर पीयूष गोयल ने कहा- "यह बहुत गर्व का विषय है कि इस तरह का एक अद्वितीय संस्थान, इस तरह के विविध पाठ्यक्रमों को लेकर 15 दिसंबर को देश को समर्पित किया जायेगा".  बता दें, विश्वविद्यालय ने पहले ही दो अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम शुरू किए थे. जिसमें  'बैचलर ऑफ साइंस इन ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी' और 'बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन इन ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट' शामिल थे.
न्यूज एजंसी के मुताबिक इस विश्वविद्यालय का उद्देश्य ट्रांसपोर्ट एंड सिस्टम डिजाइन, ट्रांसपोर्ट सिस्टम्स इंजीनियरिंग, ट्रांसपोर्ट पॉलिसी एडं इकोनॉमिक्स जैसे क्षेत्रों में 2019-20 के अकेडमिक सेशन से मास्टर कोर्स शुरू करना है.

बता दें, अभी विश्वविद्यालय में 17 छात्राएं और 86 छात्र हैं और ये देश के 20 राज्यों से आए हैं.  बीबीए - ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट में 41 छात्र और बीएससी - ट्रांसपोर्ट टेक्नोलॉजी में 62 को दाखिला मिल गया है.