ओड़िशा उच्च न्यायालय ने सीबीएसई को उत्तर-पुस्तिकाएं फिर से जांचने के आदेश दिए 
 
                    छात्रों को राहत देते हुए ओड़िशा उच्च न्यायालय ने आज केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड :सीबीएसई: को निर्देश दिया कि वह उन छात्रों की उत्तर-पुस्तिकाओं का मूल्यांकन फिर से करे जिन्होंने 12वीं की बोर्ड परीक्षा के नतीजों में विसंगतियों का आरोप लगाया है ।
                   न्यायमूर्ति विनाथ रथ की एकल पीठ ने नतीजों में विसंगतियों से प्रभावित छात्रों को यह सुझाव भी दिया कि वे कल दोपहर दो बजे तक अपनी उत्तर-पुस्तिकाओं के फिर से मूल्यांकन के लिए आवेदन करें । उन्होंने सीबीएसई से कहा कि वह उनके नतीजे 10 जून तक जारी करे । इससे पहले, दिन में छात्रों और उनके अभिभावकों ने भुवनेर में सीबीएसई के क्षेत्रीय कार्यालय के सामने भूख हड़ताल शुरू कर दी थी ।  भूख हड़ताल करने वाले अभिभावकों में शामिल रहे सुदर्शन दास ने कहा, ‘‘हम उच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं । अभिभावकों का संगठन कल अदालत का रूख करके उन सभी छात्रों के लिए इंसाफ की मांग करेगा जो सीबीएसई की विसंगतियों के पीड़ित रहे हैं।’’  दर्शनकारियों ने कहा कि हड़ताल उनकी मांगें पूरी होने तक जारी रहेंगी ।
                 नतीजों में कथित विसंगतियों की सीबीआई जांच की मांग के अलावा प्रदर्शनकारियों ने उन छात्रों की उत्तर-पुस्तिकाओं के फिर से मूल्यांकन की भी मांग की जिन्होंने अपनी उत्तर-पुस्तिकाएं फिर से जांचने के लिए आवेदन किए थे । 
भाषा