विषाक्त मिड डे मील खाने से 26 बच्चे बीमार 
 
नई दिल्ली। नरेला इलाके में सरकारी स्कूल में मिध्याह्न भोजन (मिड डे मिल) खाने के बाद 26 से अधिक छात्राएं बीमार पड़ गईं, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया। दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम छात्राओं के स्वास्य के बारे में जानकारी लेने के लिए अस्पताल गए। बताया जा रहा है कि मध्याह्न भोजन में मरी हुई छिपकली मिली।
        एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मध्याह्न भोजन खाने के बाद करीब 26 छात्राएं बीमार पड़ गईं। उन्हें सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र अस्पताल ले जाया गया।अस्पताल अधिकारियों के मुताबिक नरेला के बांकनेर स्थित सीनियर सेकेंडरी स्कूल की छात्राओं ने पेट दर्द की शिकायत की थी। अस्पताल के एक चिकित्सक ने बताया कि कुछ छात्राओं को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। शेष को बाद में छुट्टी दिए जाने की संभावना है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि कथित विषाक्त कढी-चावल का नमूना ले लिया गया है। उसे जल्द ही जांच के लिए भेजा जाएगा। गौरतलब है कि मध्याह्न भोजन खाने के बाद बच्चों के बीमार पड़ने की यह हफ्ते भर के अंदर दूसरी घटना है। इससे पहले, पूर्वी दिल्ली के खिचड़ीपुर में दिल्ली सरकार के एक विद्यालय में शनिवार को मध्याह्न भोजन खाने के बाद दो छात्राएं बीमार हो गयी थीं। उधर शिक्षा समिति अध्यक्ष राजकुमार बल्लन ने निगम स्कूलों में मिड डे मील की आपूत्तर्ि करने वाली तीन रसोइयों का बुधवार को निरीक्षण किया। इस दौरान रसोई घर में गंदगी देख बल्लन भड़क गए और मिड डे मील आपूत्तर्ि करने वाली तीन संस्थाओं को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उन्होंने कहा कि लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी। मिड डे मील के खाने की गुणवत्ता में सुधार एवं मिड डे मील परोसने वाली संस्थाओं की सेवाओं को जारी रखने के लिए पुनर्विचार किया जाएगा। इस दौरान सहायक निदेशक अंबुज कुमार, सहायक निदेशक राजीव कुमार व आनंद त्रिवेदी मौजूद थे।

मनीष सिसोदिया ने बुलाई मिड डे मील  की मीटिंग 


  दिल्ली के नरेला इलाके में एक सरकारी स्कूल में मिड डे मील खाने के बाद 25 से अधिक छात्राओं के बीमार पड़ने के मामले को दिल्ली सरकार ने गंभीरता से लिया है। उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को मिड डे मील आपूत्तर्िकर्ताओं की मीटिंग बुलायी है। सिसोदिया ने कहा है कि शिक्षा निदेशक ने सभी मिड डे मील आपूत्तर्िकर्ताओं की कल बैठक बुलाई है। मैंने निर्देश दिया है कि उन रसोई घरों का नियमित रूप से निरीक्षण किया जाए, जहां स्कूली बच्चों के लिए भोजन पकाया जाता है। यदि उनमें से कोई जरूरी मानदंडों का पालन करते हुए नहीं मिलेगा, तो उसका अनुबंध रद्द कर दिया जाएगा। दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम छात्राओं के स्वास्य के बारे में जानकारी लेने के लिए अस्पताल गए हैं । गौरतलब है कि मिड डे मील खाने के बाद बच्चों के बीमार पड़ने की यह हफ्ते भर के अंदर दूसरी घटना है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शहर में दो रसोई घरों का सोमवार को औचक निरीक्षण किया था। वहां स्कूलों के लिए भोजन पकाया जाता है।