मुस्लिम शिक्षिका ने किया रामायण का उर्दू में अनुवाद

कानपुर की एक मुस्लिम शिक्षिका ने मर्यादा पुरु षोत्तम भगवान राम के जीवन दर्शन पर आधारित महाकाव्य रामायण का उर्दू में अनुवाद किया है और वह ऐसा करके र्चचा का विषय बन गयी हैं।कानपुर की रहने वाली शिक्षिका डॉक्टर माही तलत सिद्दीकी ने दो साल में रामायण का उर्दू अनुवाद मुकम्मल किया। उन्हें उम्मीद है कि इससे व्यापक मुस्लिम समाज भगवान राम की शख्सियत के तमाम पहलुओं से आसानी से रूबरू हो सकेगा।माही ने रविवार को बताया कि उन्हें उनके शहर के बा¨शदे बद्री नारायण तिवारी ने रामायण भेंट करते हुए इसे उर्दू में अनूदित करने की सलाह दी थी, ताकि मुस्लिम समाज के लोग भी भगवान राम और रामायण से वाकिफ हो सकें।उन्होंने कहा कि अन्य सभी धार्मिक ग्रंथों की तरह रामायण भी हमें शांति और भाईचारे का संदेश देती है। वह उर्दू में इसका अनुवाद करके बहुत खुशी और सुकून महसूस कर रही हैं। माही इससे पहले भी एक कथा संग्रह का उर्दू में अनुवाद कर चुकी हैं।