10वीं-12वीं में 75 फीसद अंक तो कॉलेज में फ्री शिक्षा

प्रति वर्ष छूट के लिए बाद में सालाना 70 प्रतिशत अंक लाना जरूरी

  जयपुर  । अब सालाना पांच लाख रपए तक की आय वाले परिवारों के उन बच्चों को कॉलेजों में फ्री शिक्षा मिलेगी, जिन्होंने 10वीं-12वीं में 75 प्रतिशत या इससे अधिक अंक हासिल किए हैं। प्रतिवर्ष छूट के लिए यूजी-पीजी कक्षाओं में हर साल न्यूनतम 70 प्रतिशत अंक लाना जरूरी होगा। कॉलेजों में एडमिशन के लिए जारी पॉलिसी में यह प्रावधान किया गया है। हालांकि, परिणामों का ट्रेंड बताता है कि 75 प्रतिशत छात्रों के 65 प्रतिशत से ज्यादा अंक नहीं आते। अगर यही ट्रेंड रहा तो इस योजना का फायदा ये विद्यार्थी एक साल से ज्यादा नहीं उठा सकेंगे लेकिन 70 प्रतिशत या इससे अधिक अंक लाकर हर साल इसका फायदा लिया जा सकेगा।राज्य सरकार ने सरकारी और निजी कॉलेजों के लिए जारी शिक्षा नीति में सालाना पांच लाख रपए तक की आय वाले परिवारों के बच्चों को कॉलेजों में फ्री शिक्षा का यह प्रावधान किया है। प्रदेश के 219 सरकारी कॉलेजों में 3.80 लाख और 1631 निजी कॉलेजों में 5.51 लाख विद्यार्थी हैं। सरकारी कॉलेजों में ऑनलाइन आवेदन भरने का प्रक्रिया 6 जून से शुरू होगी। आवेदन उच्च शिक्षा विभाग के पोर्टल के माध्यम से किया जा सकेगा। हर साल की तरह पसेर्ंटाइल फामरूले से एडमिशन दिया जाएगा। विद्यार्थी कला-कॉमर्स संकाय के पास कोर्स में 45 प्रतिशत अंक पर ही आवेदन कर सकेंगे जबकि विज्ञान के लिए 48 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य हैं। इसी तरह ऑनर्स कोर्स में कला -कॉमर्स संकाय में 48 और विज्ञान में 50 प्रतिशत अंक की अनिवार्यता रहेगी। प्रवेश के दौरान एमबीसी वर्ग में आने वाले गुर्जर सहित पांच जातियों को एक प्रतिशत का फायदा, ओबीसी वर्ग का फायदा भी मिलेगा।