एसओएल में दाखिला प्रक्रिया लटकी

 

  • जून के दूसरे हफ्ते तक शुरू होगी
  • डिस्टेंट एजुकेशन बोर्ड से स्वीकृति मिलने में हुई देरीवर्ष 2016 में दो साल की मिली थी स्वीकृति


दिल्ली विविद्यालय से सम्बद्ध कॉलेजों में शैक्षणिक सत्र 2018-19 के नियतिम स्नातक पाठयक्रमों में दाखिले के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हुए दो हफ्ते हो चुके हैं, लेकिन स्कूल ऑफ ओपन लर्निग में दाखिले के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है। एसओएल में आवेदन प्रक्रिया फिलहाल और लटक गई है। सूत्रों के अनुसार एसओएल को अभी डिस्टेंट एजुकेशन बोर्ड से पत्राचार के कोर्स चलाने के लिए स्वीकृति नहीं मिली है। लिहाजा इस बार यहां ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया 10 जून के बाद ही शुरू हो पाएगी। बता दें कि डीयू के एसओएल में बड़ी संख्या में विद्यार्थियों का दाखिला होता है। यहां कम अंक वाले विद्यार्थी जिनका डीयू के नियमित कॉलेजों में हाई कटऑफ के चलते दाखिला नहीं हो पाता है, उनका एसओएल में दाखिला होता है। एसओएल में पत्राचार पाठयक्रम चलाने के लिए हर एक या दो साल पर डिस्टेंट एजुकेशन बोर्ड से स्वीकृति मिलती है, लेकिन इस बार अभी यह स्वीकृति नहीं मिली है। हालांकि एसओएल ने दाखिला प्रक्रिया शुरू करने को लेकर अपने स्तर पर पूरी तैयारी कर ली है। एसओएल में बीते शैक्षणिक सत्र 2017-18 में कुल 1 लाख 40 हजार विद्यार्थियों के दाखिले हुए थे। एसओएल में इस समय कुल 4.50 लाख विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। कौन-कौन से कोर्स उपलब्ध हैंस्नातक स्तर : बीए , बीकॉम, बीकॉम ऑनर्स, अंग्रेजी ऑनर्स, बीए पॉलिटिकल साइंस ऑनर्स।स्नातकोत्तर स्तर : एमकॉम, एमए हिन्दी, एमए हिस्ट्री, एमए संस्कृत, एमए पॉलिटिकल साइंस। स्नातक स्तर कोर्सेज की दाखिले की क्राईटेरिया : बीए/बीकॉम- बारहवीं में 40 फीसद, बीकॉम ऑनर्स-55 फीसद, बीए अंग्रेजी ऑनर्स-65 फीसद, बीए पॉलिटिकल साइंस-50 फीसद।