वैज्ञानिकों ने समाज को उल्लेखनीय योगदान दिया है:​हर्षवर्धन
 
    हैदराबाद । केन्द्रीय विज्ञान मंत्री ​हर्षवर्धन ने कहा है कि भारत के पारंपरिक ज्ञान और उसके वैज्ञानिकों ने समाज को उल्लेखनीय योगदान दिया है लेकिन कभी कभी लोग प्राचीन विद्या और देश की महानता को महसूस करने में हिचकते हैं।      केन्द्रीय मंत्री ने कहा,  हमारे देश में कई बार हम अपनी महानता और प्राचीन विद्या को महसूस करने में हिचकते हैं।’’    इस दौरान उन्होंने काफी अरसे पहले लिखी गई उस पुस्तक का जिक्र किया जिसमें भारत की महानता के बारे में विदेशी लोगों के उदगार दर्ज हैं। डा.हर्षवर्धन एकलव्य फाउंडेशन और अन्य संगठनों के तत्वावधान में यहां आयोजिए ‘राष्ट्रीय  भूमि सुपोषण सम्मेलन’  को संबोधित कर रहे थे।   उन्होंने अपने संबोधन में वि स्वास्थ्य संगठन के एक उच्च अधिकारी को याद किया जिन्होंने भारत की पारंपरिक चिकित्सा पद्धति आयुव्रेद,   देश के चिकित्सकीय पौधों और उनकी उपयोगिता की सराहना की थी । यह अधिकारी आधुनिक चिकित्सा  पण्राली के चिकित्सक थे। 
      उन्होंने कहा कि मारकोनी के पोते ने वायरलेस कम्यूनिकेशन के क्षेत्र में काम करने के लिए भारतीय वैज्ञानिक जे सी बोस की प्रशंसा की थी।  मारकोनी इटली के भौतिक शास्त्री थे और1901  में उन्होंने अटलांटिक के पार रेडियो संकेत भेजे थे।       इस दौरान उन्होंने योग व आयुर्वेद पर भी चर्चा की।