स्कूली छात्र‘दीन दयाल स्पर्श योजना’ में ले सकते हैं हिस्सा :सीबीएसई

  नयी दिल्ली।  केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड :सीबीएसई: ने सभी संबद्ध स्कूलों के छात्रों को डाक टिकट की अभिरूचि एवं शोध को प्रात्साहित करने वाली छात्रवृति संबंधी ‘‘ दीन दयाल स्पर्श योजना’’ में हिस्सा लेने का सुझाव दिया है । 
    इस योजना की शुरूआत संचार एवं डाक मंत्रालय ने की है जो भारत के स्कूली बच्चों के लिए छात्रवृत्ति योजना है।  सीबीएसई की अधिसूचना में कहा गया है कि छठी से 9वीं कक्षा के छात्र इसमें हिस्सा ले सकते हैं । 
     उल्लेखनीय है कि ‘स्पर्श’ योजना के तहत कक्षा छठी से 9वीं तक उन बच्चों को वाषिर्क तौर पर छात्रवृत्ति दी जाएगी, जिनका शैक्षणिक परिणाम अच्छा है और जिन्होंने डाक टिकट संग्रह को एक रूचि के रूप में चुना है। सभी डाक सर्किलों में आयोजित होने वाली एक प्रतियोगी प्रविया के आधार पर डाक टिकट संग्रह में रूचि रखने वाले छात्रों का चयन किया जाएगा। 
     इस योजना के अंतर्गत 920 छात्रवृत्तियां देने का प्रस्ताव है। प्रत्येक डाक सर्किल अधिकतम 40 छात्रों का चयन करेगा। कक्षा छठी, सातवीं, आठवीं, और 9वीं  में प्रत्येक से 10 छात्रों का चयन किया जाएगा। छात्रवृत्ति की राशि प्रति माह 500 रूपये अर्थात 6000 रूपये वाषिर्क है।  
    छात्रवृत्ति पाने के लिए बच्चे को पंजीकृत स्कूल का छात्र होना चाहिए, स्कूल में डाक टिकट संग्रह क्लब होना चाहिए तथा बच्चे को इस क्लब का सदस्?य होना चाहिए। यदि स्कूल में डाक टिकट संग्रह क्लब नहीं है, तो जिन छात्रों के डाक टिकट संग्रह के खाते हैं, उन्हें भी योग्य समझा जाएगा। 
    जो स्कूल इस प्रतियोगिता में भाग लेंगे उन्हें विख्यात डाक संग्रहकर्ताओं की सूची में से एक मार्गदर्शक चुनने का अवसर दिया जाएगा। यह मार्गदर्शक स्कूल स्तर पर डाक टिकट क्लब की स्थापना में सहायता प्रदान करेगा और युवा डाक टिकट संग्रहकर्ताओं को मार्गदर्शन प्रदान करेगा।