एक्सलरेट विज्ञान’से मशीनों का इस्तेमाल सीखेंगे शोधार्थी 

नयी दिल्ली।  वैज्ञानिकों, अनुसंधानकर्ताओं तथा पीएचडी छात्रों को विभिन्न उन्नत मशीनों के इस्तेमाल में दक्ष बनाने के लिए सरकार जल्द ही‘एक्सलरेट विज्ञान’नाम से एक कार्यक्रम शुरू करने वाली है।
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सचिव आशुतोष शर्मा ने यहाँ एक कार्यक्रम के दौरान बताया कि‘एक्सलरेट विज्ञान’के तहत हर साल 200 कार्यशालाएँ एवं प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन किया जायेगा। इन शिविरों में वैज्ञानिकों एवं अनुसंधानकर्ताओं के साथ पीएचडी छाों को भी मशीनों के इस्तेमाल की जानकारी दी जायेगी। इस कार्यक्रम की शुरुआत आगामी वित्त वर्ष में होगी।श्री शर्मा ने बताया कि इसके अलावा देश की विभिन्न प्रयोगशालाओं में उपलब्ध मशीनों के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल एवं उपलब्धता के लिए एक पोर्टल भी बनाया जायेगा। इस पोर्टल पर वैज्ञानिक यह देख सकेंगे कि किसी प्रयोगशाला की कौन सी मशीन कब उपलब्ध होगी। इससे यदि किसी एक प्रयोगशाला में कोई मशीन है तो उसका लाभ दूसरी प्रयोगशाला के वैज्ञानिक भी उठा सकेंगे।उपलब्धता के साथ इस पोर्टल पर मशीनों के रखरखाव और उनके इस्तेमाल के तरीकों के बारे में भी जानकारी दर जाएगी । इस्तेमाल के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण मिल जाने से मशीन के इस्तेमाल के दौरान वैज्ञानिक ज्यादा सहज महसूस कर सकेंगे।