पांचवां अंतर्राष्ट्रीय हिंदी अधिवेशन आज से हंसराज कालेज में 

नई दिल्ली। भाषा सहोदरी हिंदी द्वारा पाचवें अंतर्राष्ट्रीय हिंदी अधिवेशन की शुरुआत आज से दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज कॉलेज में की जा रही है। यह अधिवेशन  15  और 16,जनवरी दो दिन चलेगा इसका उदघाटन श्री अश्वनी चौबे  मुंख्य अतिथि करेंगे जबकि शरद यादव, श्रीमती मीरा कुमार जी के अलावा विशिष्ट अतिथि मॉरिशस के राजदूत श्री जे गोवर्धन विशिष्ट अतिथि होंगे।  इस अधिवेशन में  देश और विदेश से लोग भाग ले रहे है जिसमे हिंदी के शिक्षक , पत्रकार, लेखक,साहित्यकार,रचनाकार, है खास बात यह है कि दक्षिण भारत के पाँचों राज्य की भागीदारी हो रही है आंध्र, तमिलनाडु,केरल,कर्नाटका,तेलंगाना,हिंदी को जन जन तक हर घर तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है, 
अधिवेशन का मुख्य विंदु है 
( 1) न्यायपालिका में हिंदी के साथ भारतीय भाषाओं की भागीदारी हो , इसपर मुंख्य वक्ता है श्री के टी एस तुलसी जी संसद और अधिवक्ता, श्रीमती ज्ञान सुधा मिश्रा जी पूर्व न्यायाधीश सुप्रीम कोर्ट 
(2) हिंदी को रोजगार से जोड़ना
(3)भारतीय भाषाओं के संदर्भ में भाषा नीति , इसके वक्ता है , डॉ सी पी ठाकुर संसद एवं पूर्व मंत्री भारत,श्री डी पी त्रिपाठी संसद ,श्री अली अनवर संसद
भाषा सहोदारी के मुंख्य सयोजक श्री जय कान्त मिश्रा ने बताया कि  हिंदी को स्थापित करना है तो न्यायपालिका,कार्यपालिका,विधायिका, के अलावा जनमानस में हिंदी को लाना होगा,ज्ञान विज्ञान की भाषा बनानी होगी हिंदी को, दिल्ली विश्वविद्यालय के 12 कॉलेजो के हिंदी विभाग के शिक्षक, छात्र छात्राओं की भागीदार  के अलावा हंसराज कॉलेज के प्राचार्या डॉ रमा जी का सहयोग सराहनीय है ।।